Home

Book Review
रूम ऑन द रूफ़

रस्टी एक ऐसा लड़का है, जिसे असली दुनिया से काटकर तमाम बंधनों में रखा गया है और यही कारण है कि बाहरी परिवेश देखने व जीने के लिए उसकी उत्कंठा और तीव्र होती जाती है। यह उपन्यास बताता है कि भारत में रहते हुए भी अंग्रेजों ने अपनी नस्ल को भारतीयों से अलग, ‘उच्च’ बनाए रखने का सर्वथा प्रबंध किया हुआ था। बाज़ार, जहाँ हिंदुस्तानी’पन’ अपने सम्पूर्ण स्वरूप में मौजूद था, वह रस्टी के चाचा के मुताबिक़ ‘चोरों और नुकसान पहुंचाने वालों’ से भरी हुई जगह थी।

Call for Blogs
No Registration Fee, Submissions on Rolling Basis

We welcome submissions on plethora of Social, Legal and Literary issues. The priority in publication will be given to the manuscript that is highly analytical and deals with novel argumentation. In order to avoid any language barrier, we urge you to make multilingual submissions.

 previous arrow
 next arrow
Slider

Explore the Social World

We cordially invite you to illume your intellectual being by marking your presence in the corridors of social discourse of- S–Sustainable Developments; O–Odium; C-Cyber Crime; I–Illiteracy; A–Acid Attack; L-LGBTQ+ so on and so forth.

No Ignoring Judice

An adit to legal binge is never out of board. Here, we give you that boat to hop on with your inks and mark you significance with the swirl of your suggestive interpretation.

सामाजिक प्राणी के रूप में समाज में घट रही हर घटना जो हमें प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से प्रभावित कर रही है―साहित्य का भाग होगी। सोशियोलीगललिटरेरी उन तमाम घटनाओं के फलस्वरूप आपकी चेतना में उपजी सभी कलाओं के लिए स्थान प्रदान करता है।

Our Interview Series

We are doing Interview with Transgender Activist. Also we have done an Interview with Japleen Pasricha on Gender Issues.

Our Flagship Webinars

We are uploading our webinars on our YouTube Channel – SocioLegalLiterary.