Stories with Womxn Protagonists are Considered Chick-Lit Even Though They Deal with Intrinsic Issues Plaguing Women. Why?

By- Stuti Srivastava The term ‘chick lit’ is used widely in popular speak to refer to literature that focuses on the lives of women, often in a dramatic fashion, focussing…

Continue Reading Stories with Womxn Protagonists are Considered Chick-Lit Even Though They Deal with Intrinsic Issues Plaguing Women. Why?

गीत चतुर्वेदी से गायत्री की बातचीत

अंवा-गार्द एक फ्रेंच शब्द है, जो आमतौर पर पुराने ज़माने में सेना की टुकड़ी का नेतृत्व करने वाले सिपाही या सेनापति के लिए इस्तेमाल किया जाता था। बाद में कला की दुनिया में उन लोगों को परिभाषित करने में प्रयुक्त होता था, जो नवीन प्रयोग करते थे, कलात्मक प्रयोगधर्मिता की अग्र पंक्ति में खड़े होते थे, रूढ़िवादी नहीं थे। जहाँ तक मेरी बात है, कई बार मालूम भी नहीं चलता या देर से पता चलता है कि आपके बारे में ऐसा कोई शब्द या विशेषण- जैसा कुछ प्रयोग किया जा रहा है। ऐसे शब्द या उपाधि या विशेषण पढ़ने-सुनने में कई बार अच्छे लगते हैं, बाज़ दफ़ा अच्छा भी महसूस होता है, लेकिन समग्रता में मैं इन सब से प्रभावित नहीं हो पाता। मैं अपने काम को अधिक देखता हूँ, नाम और उपाधियों को कम।

Continue Reading गीत चतुर्वेदी से गायत्री की बातचीत

धोबीघाट : ‘महानगर,भूख,हताशा की कहानी’

फ़िल्म के मूल में दरभंगा से भागकर बम्बई आया लड़का (प्रतीक बब्बर) है,जो इस बात के जवाब में कि वह बम्बई क्यों आ गया,कहता है कि 'वहाँ हमेशा भूख लगी रहती थी।' यह संवाद फ़िल्म का डायलॉग भर नहीं,बल्कि सच्चाई है।भारत विश्व में सर्वाधिक भूखों का देश है। 2019 में आयी ग्लोबल हंगर इंडेक्स रिपोर्ट में 217 देशों में भारत 202वें स्थान पर है।

Continue Reading धोबीघाट : ‘महानगर,भूख,हताशा की कहानी’

शहर, संस्कृति एवम् साहित्य

[लखनऊ को 14 नवंबर 2019 से पहले अजीज़ दोस्त आदित्य, और अभिषेक की नज़र से समझा, लखनऊ की बात करने के दौरान एक अलग क़िस्म की चमक होती थी इनकी…

Continue Reading शहर, संस्कृति एवम् साहित्य

जब मेरी चिंता बढ़े माँ सपने में आए

इंसान के तमाम रिश्तों पर बहुत कुछ लिखा पढ़ा गया है, मां और बेटे के रिश्ते पर भी लिखा गया है । मेरा यह निश्चित मत है कि की एक…

Continue Reading जब मेरी चिंता बढ़े माँ सपने में आए

साक्षात्कार : नवीन चौधरी

सोशियो लीगल लिटरेरी के इंटरव्यू सीरीज की चौथी कड़ी में मंच के मैनेजिंग एडिटर आर्यन आदित्य ने बात किया- ऑक्सफोर्ड इंडिया प्रेस के एसोसिएट मार्केटिंग डायरेक्टर, जनता स्टोर के लेखक,…

Continue Reading साक्षात्कार : नवीन चौधरी

साक्षात्कार : प्रतीक पचौरी

http://sociolegalliterary.in सोशियो लीगल लिटरेरी के इंटरव्यू सीरीज की तीसरी कड़ी में, मंच के संस्थापक संपादक राजेश रंजन एवं मैनेजिंग एडिटर आर्यन आदित्य ने बात किया, उभरते हुए अभिनेता, निर्देशक, प्रतीक…

Continue Reading साक्षात्कार : प्रतीक पचौरी